CBSE Introduce AI and Coding CBSE ने 6 से 8 तक AI and Coding लागू की

Share this Article

CBSE Introduce AI and Coding – नई शिक्षा नीति (NEP) 2020 के अनुसार, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड CBSE ने 6 से 8 तक AI and Coding लागू की। अब पाठ्यक्रम में कोडिंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) को भी पढ़ाया जाएगा। इस निर्णय से भविष्य में Data Science, machine learning और AI की सहायता से विभिन्न व्यवसायों के लिए छात्रों को शिक्षित किया जा सकेगा।

CBSE Introduce AI and Coding CBSE ने 6 से 8 तक AI and Coding लागू की
CBSE Introduce AI and Coding CBSE ने 6 से 8 तक AI and Coding लागू की

CBSE Introduce AI and Coding in 6 to 8

वर्तमान में दुनिया डिजिटलीकरण की ओर बढ़ रही है। डिजिटल युग में सफल होने के लिए छात्रों मे कोडिंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) जैसे कौशल विकसित करना महत्वपूर्ण है। इसको देखते हुए कक्षा छह से आठ तक के पाठ्यक्रम में CBSE Introduce AI and Coding को पाठयक्रम में शामिल करने की घोषणा की है। यह पाठ्यक्रम युवा पीढ़ी को भविष्य के लिए बेहतर तरीके से तैयार करने में मदद करेगा।

पाठ्यक्रम में कोडिंग और एआई परिचय

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) एक तेजी से विकसित होने वाली तकनीक है जो विभिन्न उद्योगों में अधिक से अधिक लोकप्रिय हो रही है। यह सुनिश्चित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम कि बच्चों के पास वर्तमान दुनिया में सफल होने के लिए आवश्यक कौशल है, स्कूल पाठ्यक्रम में AI and Coding को शामिल करना आवश्यक है। इस नए पाठ्यक्रम की मदद से, बच्चे AI and Coding के मूल सिद्धांतों में महारत हासिल करने में सक्षम होंगे, जो उन्हें कम उम्र में समस्या-समाधान और महत्वपूर्ण सोच कौशल विकसित करने में सक्षम बनाएगा।

अन्य पढे – विश्व अस्थमा दिवस World Asthma Day 2 May कारण लक्षण और उपचार

सीबीएसई में 6 से 8 तक एआई और कोडिंग करने के प्रमुख बिंदु

एनईपी 2020 के तहत प्रारंभिक शिक्षा में एआई और कोडिंग, वित्तीय साक्षरता और डेटा साइंस जैसे अन्य विषयों को शामिल किया जाएगा।

  • इसके अतिरिक्त, कक्षा 6 और 8 के बच्चे सीखेंगे कि दवाओं को ठीक से कैसे स्टोर किया जाए, और कक्षा 8 के छात्र डेटा साइंस का अध्ययन करेंगे।
  • एआई उन 33 विषयों में से एक है जिसे सीबीएसई ने छात्रों को अपने कौशल विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए निर्दिष्ट किया है।
  • इन विषयों में COVID-19, कश्मीरी कढ़ाई, उपग्रह अनुप्रयोग, संवर्धित वास्तविकता और मानवता भी शामिल हैं।

स्कूलों के 12 से 15 घंटे के कोडिंग सत्र में व्यावहारिक गतिविधियों और सिद्धांत के बीच 70/30 का विभाजन होगा। विद्यार्थियों को एआई और कोडिंग में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए, माइक्रोसॉफ्ट कोडिंग पाठ्यक्रम विकसित करेगा।

CBSE Introduce AI and Coding CBSE ने 6 से 8 तक AI and Coding लागू की

कोडिंग और एआई छात्रों के लिए आवश्यक क्यों हैं?

कोडिंग और एआई को स्कूली पाठ्यक्रम में कैसे शामिल किया जाएगा?

सीबीएसई के मुताबिक कक्षा छह से आठ तक AI and Coding को वैकल्पिक विषय के तौर पर जोड़ा जाएगा। बोर्ड के अनुसार पाठ्यक्रम इस तरह बनाया जाएगा कि एआई या कोडिंग के पूर्व ज्ञान के बिना भी छात्र इसे समझ सकेंगे। पाठ्यक्रम में छात्रों को उनके कौशल को सुधारने में मदद करने के लिए व्यावहारिक अभ्यास शामिल होंगे, जबकि इसका उद्देश्य छात्रों को एआई और कोडिंग विषयों का एक मौलिक आधार देना भी है।

पाठ्यक्रम के लिए एआई और कोडिंग लाभ

शैक्षिक पाठ्यक्रम में एआई और कोडिंग को शामिल करने से विद्यार्थियों को कई तरह से मदद मिलेगी।

  • यह उन्हें भविष्य के श्रम बाजार के लिए तैयार करेगा, जहां कोडिंग और एआई क्षमताओं की भारी मांग है।
  • यह छात्रों को उनकी आलोचनात्मक सोच और समस्या को सुलझाने की क्षमताओं को सुधारने में सहायता करेगा, जो उनके भविष्य के रोजगार में उपयोगी होगा।
  • एआई को कोडिंग के साथ जोड़कर, छात्रों को प्रौद्योगिकी और नवाचार की दुनिया को समझने के लिए बेहतर ढंग से सुसज्जित किया जाएगा।

भविष्य के लिए बच्चों को शिक्षित करने में सबसे महत्वपूर्ण कदमों में से एक है स्कूली पाठ्यक्रम में एआई और कोडिंग को शामिल करना। यह छात्रों को वर्तमान दुनिया में फलने-फूलने के लिए आवश्यक क्षमताएं प्राप्त करने में सहायता करेगा और उन्हें भविष्य के श्रम बाजार के लिए तैयार करेगा। कक्षा 6 से 8 में कोडिंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को शामिल करने की सीबीएसई की योजना प्रशंसनीय है और निश्चित रूप से यह भारतीय शिक्षा प्रणाली में सुधार करेगी और छात्रों के लिए लाभदायी सिद्ध होगी।

Share this Article

2 thoughts on “CBSE Introduce AI and Coding CBSE ने 6 से 8 तक AI and Coding लागू की”

Leave a Comment