गांधीजी: एक आत्मा, एक संदेश, एक विश्व Gandhi Ji One Soul, One Message, One World

Share this Article

गांधीजी: एक आत्मा, एक संदेश, एक विश्व Gandhi Ji One Soul, One Message, One World – राष्ट्रीय आंदोलन में भाग लेने वाले किसी भी नेता के बारे में मतभेद हो सकते हैं, लेकिन सभी भारतीय आज भी राष्ट्रपिता के रूप में महात्मा गांधी का सम्मान करते हैं चाहे वे किसी भी दल या धर्म के हों। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सी सरकार सत्ता में है, उनकी छवि नोटों पर मुद्रित होती है और उच्च सम्मान में रखी जाती है।

गांधीजी: एक आत्मा, एक संदेश, एक विश्व Gandhi Ji One Soul, One Message, One World

महात्मा गांधी एकमात्र ऐसे महापुरुष हैं जिन्होंने यह सिद्ध कर दिया कि केवल अहिंसा के सिद्धांत का प्रयोग करके एक क्रूर सरकार को बिना किसी हथियार के झुकाया जा सकता है। प्रसिद्ध वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा था कि “पीढ़ियों के लिए यह अविश्वसनीय होगा कि गांधीजी जैसा महान व्यक्ति हाड़-मांस में इस धरती पर आया था”। आज के समय में बढ़ते जातीय द्वेष, भ्रष्टाचार और स्वार्थ के इस युग में हमें यह समझना चाहिए कि देश की एकता, अखंडता और प्रगति के लिए गांधीजी के सिद्धांतों पर चलने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है। गांधी जी की जयंती के अवसर पर देश को उनकी दी गई शिक्षाओं को एक बार फिर से याद करने की जरूरत है।

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now
Join Facebook Page Join Now

गांधीजी: एक आत्मा, एक संदेश, एक विश्व Gandhi Ji One Soul, One Message, One World

राष्ट्रीय आंदोलन में भाग लेने वाले किसी भी नेता के बारे में मतभेद हो सकते हैं, लेकिन सभी भारतीय, चाहे वे किसी भी दल या धर्म के हों, आज भी राष्ट्रपिता के रूप में महात्मा गांधी का सम्मान करते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सी सरकार सत्ता में है, उसकी छवि मुद्रा नोटों पर मुद्रित होती है और उच्च सम्मान में रखी जाती है। गांधीजी का प्रभाव हमारे देश में ही नहीं, बल्कि पश्चिमी देशों में भी है।

मार्टिन लूथर किंग जूनियर गांधीजी के प्रभाव वाले विश्व आंदोलन के नेताओं में से एक थे। गांधीजी के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि अगर ईसा मसीह हमें लक्ष्य देते हैं तो गांधीजी हमें उन तक पहुंचने का रास्ता दिखाते हैं। उन्होंने लाखों अफ्रीकी और अमेरिकी नीग्रो लोगों के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए गांधीजी के अहिंसा के सिद्धांत को एक हथियार के रूप में चुना और सफल हुए।

दक्षिण अफ्रीका में काले लोगों को श्वेत दासता से मुक्ति दिलाने वाले सेनानी नेल्सन मंडेला ने भी गांधीजी की विचारधारा को अपने संघर्ष का हथियार चुना। गोरों के अत्याचार से डरे बिना उन्होंने 20 वर्ष से अधिक समय जेल में बिताया और अपना लक्ष्य हासिल किया। सीज़र चावेज़, जो एक अमेरिकी मानवाधिकार नेता थे, जिनके बारे में दुनिया बहुत कम जानती है, उन्होंने गांधीजी के बताये रास्ते पर चलकर लड़ाई लड़ी और अमेरिका में कृषि श्रमिकों को न्याय दिलाया। उनका मानना था कि विरोध करने का गांधीवादी तरीके से बेहतर कोई तरीका नहीं है।

एक बार उन्होंने मालिकों की गर्दन झुकाने के लिए 25 दिनों तक भूख हड़ताल की और पूरे देश को एकजुट किया। गांधीजी की अहिंसा की नीति ने उन्हें एक महान नेता बनने में मदद की। हालाँकि, हमारे देश में बहुत से लोग उनके बारे में नहीं जानते हैं। सिर्फ वे ही नहीं, संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति रह चुके बराक ओबामा, संयुक्त राष्ट्र महासचिव रह चुके यू थांट और मशहूर अमेरिकी पत्रकार लुईस फिशर भी गांधीजी के प्रशंसक हैं। गांधी जी के मार्ग पर चलते हुए उन्हें बहुत पहचान मिली।

गाँधी जी का विदेशो में प्रभाव

इसमे कोई आश्चर्य की बात नही है कि अमेरिका में गांधी जी की लगभग उतनी ही मूर्तियां हैं जितनी हमारे देश में हैं। आज अमेरिका उन देशों में से एक है जहां गांधीजी के सिद्धांतों पर व्यापक शोध किया जाता है। वहां के सभी सुशिक्षित लोग गांधी जी की प्रशंसा करते हैं। इससे हम समझ सकते हैं कि गांधी जी का प्रभाव हमारे देश से ज्यादा विदेशों में है। विदेशों में गांधी जी के दार्शनिक सिद्धांतों पर काफी शोध हो रहा है। इन शोधों में अग्रणी भूमिका निभाने वालों में प्रमुख हैं जर्मनी के क्रिश्चियन बार टाल्फ़। उन्होंने कई देशों में बड़े पैमाने पर यात्रा की और गांधीजी के सिद्धांतों का प्रचार किया।

दुनिया में शायद ही ऐसा कोई दूसरा महान व्यक्ति होगा जिसका सम्मान विदेशी भी करते हों! इस कारण गांधीजी को एक जाति, एक धर्म, एक क्षेत्र या एक राष्ट्र का नहीं माना जा सकता। वह समस्त मानवजाति के मार्गदर्शक हैं। गांधीजी के सिद्धांतों के प्रभाव से पूरी दुनिया में आंदोलन के तरीकों में बड़े बदलाव आए हैं। दुनिया भर के आंदोलन के नेताओं ने महसूस किया है कि सशस्त्र संघर्ष की तुलना में अहिंसक संघर्ष हासिल करना आसान है।

गांधी जी के सिद्धांतों का असर

पिछली शताब्दी में, सशस्त्र संघर्षों ने 27 प्रतिशत युद्ध जीते हैं, जबकि अहिंसक युद्धों ने 51 प्रतिशत युद्ध जीते हैं। इस प्रकार गांधीजी के सिद्धांत धीरे-धीरे लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं।

गांधीजी न केवल स्वतंत्रता आंदोलन के नेता थे बल्कि एक महान लेखक भी थे। उन्होंने अंग्रेजी, गुजराती और हिंदी भाषाओं में कई रचनाएँ लिखीं। यह किसी के लिए आश्चर्य की बात नहीं है कि उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में शामिल रहते हुए इतनी सारी रचनाएँ लिखीं। उन्होंने जितनी व्यापकता और तेजी से लिखा, बाद के समय में पूरी दुनिया ने उतनी ही तीव्रता और गहराई से उनके बारे में सोचा। एक अनुमान के अनुसार पूरे विश्व में सभी भाषाओं को मिलाकर अधिकांश रचनाएँ बाइबिल से संबंधित हैं, जिसमें गांधी जी का साहित्य दूसरे स्थान पर है। इससे हम समझ सकते हैं कि गांधीजी की रचनाएँ कितनी अनूठी हैं।

एक महान वक्ता, लेखक, कवि और साहित्यकार

गांधी जी एक पत्रकार के रूप में भी जाने जाते थे। गांधी जी 19 साल की उम्र में इंग्लैंड गए। वहां अखबार पढ़कर उनका परिचय एक नई दुनिया से हुआ। 21 साल की उम्र में गांधीजी ने शाकाहार के गुणों पर अपना पहला निबंध प्रकाशित किया। भारत से इंग्लैण्ड जाने वाले विद्यार्थियों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर लंदन गाइड नामक पुस्तक प्रकाशित की गई। 30 वर्ष की आयु में उन्होंने दक्षिण अफ़्रीका में ‘इंडियन ओपिनियन’ पत्रिका की स्थापना की और उससे संबंधित सभी कार्यों का प्रबंधन स्वयं किया।

1920 में उन्होंने ‘यंग इंडिया’ और ‘नवजीवन’ पत्रिकाएँ चलाईं। 1933 में 64 वर्ष की उम्र में उन्होंने ‘हरिजन’ पत्रिका की स्थापना की। यह अंग्रेजी, हिंदी, उर्दू, तेलुगु, तमिल, मराठी, गुजराती, बंगाली और उड़िया भाषाओं में सफलतापूर्वक चला। वह एक दिन में सामान्य लिखावट में 50 पेज तक लिखते थे। उन्होंने अपने जीवनकाल में एक लाख पत्र लिखे। गांधीजी की पहचान विश्व में एक महान लेखक के रूप में होती है। इसका कारण उनके लेखन में मानवतावाद दिखता है। भारत की विभिन्न भाषाओं के सभी प्रसिद्ध कवि और लेखक उनके प्रभाव में आये। रवीन्द्रनाथ टैगोर जैसे महान कवि और लेखक भी इसके अपवाद नहीं हैं।

गांधी जी द्वारा शुरू किए गए कार्य

एक ओर गांधीजी असहयोग, नमक सत्याग्रह और भारत छोड़ो जैसे आंदोलनों में सक्रिय थे और दूसरी ओर गांधीजी ने देश के लोगों में सामाजिक परिवर्तन लाने के लिए बहुत ही कड़ी मेहनत की।

स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाना,
स्वदेशी कृषि ज्ञान का प्रसार,
गाँवों तक वैज्ञानिक अनुसंधान ले जाना,
शराब के दुरुपयोग का उन्मूलन,
गाँव का पुनर्निर्माण,
विदेशी वस्तुओं का निर्यात,
चरखा, सूत कातने और बुनाई में आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के लिए कई कुटीर उद्योगों की स्थापना,
एक राष्ट्रीय शिक्षा प्रणाली तैयार करना और राष्ट्रीय विद्यालयों की स्थापना करना
महाविद्यालयों की स्थापना

ऐसे ही अनेक भव्य कार्यक्रम हाथ में लिये गये और सफलतापूर्वक संचालित किये गये।

हम समझ सकते हैं कि गांधीजी के आंदोलन का कितना प्रभाव था जब मैनचेस्टर में कपड़ा मिलें बंद हो गईं, जो उनके आंदोलन के कारण इंग्लैंड में कपड़ा उद्योग के लिए प्रसिद्ध था। गांधी जी के प्रभाव से सुप्त गांवों में चेतना आई और उन्होंने विदेशों पर निर्भर न रहकर आत्मनिर्भरता हासिल की। गांधीजी ने बड़ी कुशलता से इस भावना को स्वतंत्रता संग्राम के लिए ईंधन के रूप में इस्तेमाल किया और आंदोलन को अहिंसक मार्ग पर आगे बढ़ाया। गांधीजी ने न केवल जीवन भर मोटा कपड़ा पहना, बल्कि मिल से बने कपड़े का उपयोग भी पूरी तरह से त्याग दिया। गांधी जी वास्तव में Gandhi Ji One Soul, One Message, One World है जो सम्पूर्ण विश्व में मने जाते हैं।

Share this Article

1 thought on “गांधीजी: एक आत्मा, एक संदेश, एक विश्व Gandhi Ji One Soul, One Message, One World”

Leave a Comment